Best Shayari Hub

Alone Shayari

उजालो में चैन नहीं
मुझे थोड़ी सी रात भी चाहिए
भूल जाऊ उसके खयालो को
मुझे वो बात भी चाहिए

Ujaalo me chain nahi
Mujhe thodi si raat bhi chahiye
Bhul jau uske khayalo ko
Mujhe wo baat bhi chahiye

एक आग लगी थी मेरे अंदर
उसी आग को बुझा रहा हूँ,
हर दफा नाकाम हुआ मैं
फिर भी उसे भूलने की कोशिश किये जा रहा हूँ।

Ek aag lagi thi mere andar
usi aag ko bujha raha hu,
har dafa naakam hua me
fir bhi use bhulne ki kosis
kiye jaa raha hu.

मुस्कुराता रोज हु
पर खुश हुए ज़माना हो गया,
मुस्कुराता रोज हु
पर खुश हुए ज़माना हो गया,
दिन नहीं बीते है
गिनती के चार,
पर ऐसा लगता है
देखे ज़माना हो गया!

Muskurata roj hu
par khush hue zamana ho gya,
Muskurata roj hu
par khush hue zamana ho gya,
din nahi beete hai
ginti ke chaar
par esa lagta hai
dekhe zamana ho gya.

कभी नजदीकियों के किस्से मशहूर थे जिनसे
वो आज फासलों के बहाने नापते है,
ठहाकों की महफ़िलो के मशहूर वो शख्स
आज मुस्कुराने की वजह तलाशते है।

Kabhi najdikiyo ke kisse mashhoor the jinse
wo aaj faaslo ke bahane naapte hai,
thahako ki mehfilo ke mashhoor wo shaks
aaj muskurane ki wajah talashte hai.

Leave a Reply