Best Shayari Hub

Bhula dena shayari

एक आग लगी थी मेरे अंदर,
उसी आग को बुझा रहा हूँ,
हर दफा नाकाम हुआ मैं,
फिर भी उसे भूलने की कोशिश किये जा रहा हूँ।

Ek aag lagi thi mere andar,
usi aag ko bujha raha hu,
har dafa naakam hua me,
fir bhi use bhulne ki kosis
kiye jaa raha hu.

Hindi Shayari

खलने लगी है कमी आसमां को उन परिंदों की,
जो कभी अपनी उड़ान से आसमान सजाते थे,
आज़ादी के जश्न में डूबे वो परिंदे
अब नजर कहा आते है।।

Khalne lagi hai kami aasman ko
unn parindo ki,
jo kabhi apni udaan se aasman sajate the,
aazadi ke jashn me dube wo parinde
ab najar kaha aaye hai.

Click here to read :
LOVE SHAYARI
SAD SHAYARI
INTEZAR SHAYARI

Leave a Reply