Best Shayari Hub

Broken heart shayari

केहती रही वो मुझे कि – हम इश्क़ को बेवजह बदनाम किए बैठे हैं,
क्योंकि उसे हम कुछ मुनाफिकों के नाम जो किए बैठे है।।
भूल रहा था मैं कि – इश्क़ का मर्ज तो…सिर्फ हम लगाए बैठे हैं,
और वो जनाब तो मरघट को भी विरां बनाएं बैठे हैं।।।।

Kehti rahi wo muje kii – hum ishq ko bewajah
badnaam kiye bethe hai,
kyuki use hum kuch munafiko ke naam
jo kiye bethe hai..
bhul raha tha main kii – ishq ka marz to… sirf hum lagaye bethe hai,
orr wo janab toh marghat ko bhi
veeran banaye bethe hai….

अपने अतीत से भी उसे निकाल सकू,
इतना भी इस दिल के बस में नहीं।।
मुसलसल उसकी गैरमौजदगी हर रोज़,
इस जबीन पे शिकन ले आती है ।।।।

(मूसलसल – एक श्रृंखला में or continuous
जबीन – forehead
शिकन – झुरिया या सिकुड़न)

Apne atit se bhi nikaal saku,
itna bhi iss dil ke bas me nahi..
musalsal uski gairmojudagi har ron,
iss jabeen pe shikan le aati hai….

हर नायाब चीज़ को हम बेदखल करते रहे,
क्योंकि इस कुफ़र में जो थे-कि तुम हमसे इश्क़ करते रहे ।।
क्या कहूं….बस कामिल सी थी तेरी अदाकरियां,
कमबख्त हम तुमपे,तो तुम किसी और पे मरते रहे।।।।

Har naayab chij ko hum bedakhal karte rahe,
kyuki iss kufar me jo the ki tum
humse ishq karte rahe..
kya kahu….. bs kaamil si thi teri adakariya,
kambhakt hum tumpe, to tum kisi or pe marte rahe….

कौन कहता है की कुछ तोड़ने
के लिए औजार की जरुरत होती है,
कभी कभी ये जुबान भी बेवजह
दिल तोड़ जाया करती थी।

Kaun kehta hai ki kuch todne ke
liye aujaar ki jarurat hoti hai,
kabhi kabhi ye jubaan bhi bewajah
dil tod jaya karti thi.

Leave a Reply