Best Shayari Hub

Status Shayari

चाँद शायरी

इस चांद की रोशनी में मैं ठेहरा रहा,
भटकता रहा वहा,जहा तेरा बसेरा रहा।।
खोकर भी पाया है,जैसे जहान से आसमा,
तेरी हंसी से जब भी मेरा सवेरा हुआ।।।।

Iss chand ki roshni me main thehre raha,
bhatakta raha waha, jaha tera basera raha..
khokar bhi paya hai, jaise jahan se aasma,
teri hasi se jab bhi mera sawera hua…..

नमूदार हुआ है चांद आज फलक पर,
बस तूने अपने वादे पर ऐतबार ना किया।।
ग़ज़ब किया – मेरी ज़िन्दगी से रुखसत होकर,
के तूने भी कयामत का इंतज़ार ना किया।।।।

Namudar hua hai chand aaj falak pr,
bs tune apne waade pr aitbaar na kiya..
gajab kiya meri zindagi se rukhsat hokar,
ke tune bhi qayamat ka intezar na kiya…

उसके चेहरे की चमक के सामने सादा लगा,
यूँ तो आसमां में चाँद पूरा था
लेकिन फिर भी आज आधा लगा।।

Bhula dena shayari

एक आग लगी थी मेरे अंदर,
उसी आग को बुझा रहा हूँ,
हर दफा नाकाम हुआ मैं,
फिर भी उसे भूलने की कोशिश किये जा रहा हूँ।

Ek aag lagi thi mere andar,
usi aag ko bujha raha hu,
har dafa naakam hua me,
fir bhi use bhulne ki kosis
kiye jaa raha hu.

Hindi Shayari

खलने लगी है कमी आसमां को उन परिंदों की,
जो कभी अपनी उड़ान से आसमान सजाते थे,
आज़ादी के जश्न में डूबे वो परिंदे
अब नजर कहा आते है।।

Khalne lagi hai kami aasman ko
unn parindo ki,
jo kabhi apni udaan se aasman sajate the,
aazadi ke jashn me dube wo parinde
ab najar kaha aaye hai.

Click here to read :
LOVE SHAYARI
SAD SHAYARI
INTEZAR SHAYARI

Friendship shayari

बहोत से रिश्तों को बदलते देखा है,
उन्हीं बदलते रिश्तों को उलझते देखा है,
देखा है बदलती हुई यारी को,
बदलते देखा है पापा की उस दुलारी को,
वैसे तो बदल गया है मेरा जिगरी,
हमसे ज्यादा उसके बाबू की है बेफिक्री,
दिख रहा है बदलता मिज़ाज जनाब का,
काट रहा है वो फ़ोन आज आपका,
समय भी सही कहता है की समय किसने देखा,
मेने मेरे यार को आज समय के साथ बदलते देखा।।

Bahut se rishton ko badalte dekha hai,
unhi badalte roshton ko ulajhate dekha hai,
dekha hai badalti hui yaari ko,
badalte dekha hai papa ki uss dulari ko,
wese to badal gaya hai mera jigri,
humse jyada uske babu ki hai befikri,
dikh raha hai badalta mizaj jnaab ka,
kaat raha hai wo phone aaj aapka,
samay bhi sahi kehta hai ki
samay kisne dekha,
mene mere yaar ko aaj
samay ke sath badalte dekha.

गम ज्यादा था, घबरा कर पी गया,
ख़ुशी थोड़ी थी, मिलाकर पी गया,
यु तो ना थी जनम से पीने की आदत,
दोस्त ने कहा तो तरस खा कर पी गया।

Ghum jyada tha, ghabra kr pee gaya,
khushi thodi thi, milakar pee gaya,
yu to naa thi janam se peene ki aadat,
dost ne kaha to taras kha kar pee gaya.

Aankhein shayari for status

जो आँखे है तुम्हारी
क्या ही बवाल करती है
पास रहू तो खुद जाम पे जाम पिलाती है
और दूर रहू तो हर पल सवाल करती है

Jo aankhein hai tumhari
Kya hi bawal karti hai
Paas rahu to khud jaam pe jaam pilati hai
aur door rahu to har pal sawal karti hai
Credit~Yashonil Patidar