Best Shayari Hub

Friendship shayari

बहोत से रिश्तों को बदलते देखा है,
उन्हीं बदलते रिश्तों को उलझते देखा है,
देखा है बदलती हुई यारी को,
बदलते देखा है पापा की उस दुलारी को,
वैसे तो बदल गया है मेरा जिगरी,
हमसे ज्यादा उसके बाबू की है बेफिक्री,
दिख रहा है बदलता मिज़ाज जनाब का,
काट रहा है वो फ़ोन आज आपका,
समय भी सही कहता है की समय किसने देखा,
मेने मेरे यार को आज समय के साथ बदलते देखा।।

Bahut se rishton ko badalte dekha hai,
unhi badalte roshton ko ulajhate dekha hai,
dekha hai badalti hui yaari ko,
badalte dekha hai papa ki uss dulari ko,
wese to badal gaya hai mera jigri,
humse jyada uske babu ki hai befikri,
dikh raha hai badalta mizaj jnaab ka,
kaat raha hai wo phone aaj aapka,
samay bhi sahi kehta hai ki
samay kisne dekha,
mene mere yaar ko aaj
samay ke sath badalte dekha.

गम ज्यादा था, घबरा कर पी गया,
ख़ुशी थोड़ी थी, मिलाकर पी गया,
यु तो ना थी जनम से पीने की आदत,
दोस्त ने कहा तो तरस खा कर पी गया।

Ghum jyada tha, ghabra kr pee gaya,
khushi thodi thi, milakar pee gaya,
yu to naa thi janam se peene ki aadat,
dost ne kaha to taras kha kar pee gaya.

Leave a Reply