Best Shayari Hub

Hindi Poem on Garibi

कितनी बेदर्द है गरीबी..
पैरो में छाले है
फिर भी पैदल चलती है गरीबी,
भूख से पेट बिलख रहा
फिर भी भूखा सुलाती है गरीबी,
हाथों में तकलीफ है
फिर भी बोझ उठवाती है गरीबी,
मन में पड़ने की आस है
फिर भी हाथो से कलम छिन लेती है गरीबी,
बचपन में खुली बाहे है
फिर भी जिम्मेदारी के बोझ तले दबाती है गरीबी।
कितनी बेदर्द है गरीबी…

Kitni bedard hai garibi..
pairo me chaale hai
fir bhi paidal chalti hai garibi,
bhukh se pet bilakh raha
fir bhi bhukha sulati hai garibi,
hathon me taklif hai
fir bhi bojh uthwati hai garibi,
man me padne ki aas hai
fir bhi hathon se kalam chin leti hai garibi,
bachpan me khuli baahe hai
fir bhi jimmedari ke bojh tale dabati hai garibi…
kitni bedard hai garibi…

Leave a Reply