Best Shayari Hub

Hindi poem

जाता हूँ कही भी
पर घर जैसी हसीन रात नहीं होती,
सोचा था मिल बैठेंगे सभी यार
पर क्या करे मुलाक़ात नहीं होती,
निकलते थे घर से सपने पुरे करने
पर किसे बताये माँ से मिले बगैर
दिन की शुरुआत नहीं होती,
किसी अजनबी ने सही कहा था,
शहरों में शाम नहीं होती।

Jaata hu kahi bhi
par ghar jaisi haseen raat nhi hoti,
socha tha mil bethenge sabhi yaar
par kya kare mulaqat nhi hoti,
nikalte the ghar se sapne pure karne
par kise bataye maa se mile bagair
din ki shuruaat nahi hoti,
kisi ajnabee ne sahi kaha tha,
shehro me sham nahi hoti.

Leave a Reply