Best Shayari Hub

Intezar shayari

यूँ ना खिंच मुझे अपनी तरफ बेबस करके
ऐसा ना हो की खुद से भी बिछड़ जाऊ
और तू भी ना मिले
फिर कैसे कहूँगा उस बेचारे दिल से
की चली गयी तू फिर लौट कर आने का बहाना करके

Yu naa khich mujhe apni taraf bebas karke,
esa naa ho ki khud se bhi bichad jau
aur tu bhi naa mile
fir kese kahunga us bechare dil se
ki chali gayi tu fir laut kar aane ka bahana karke

Leave a Reply