Best Shayari Hub

Latest Sad shayari collection

ये इश्क़ मोहब्बत की
रिवायत भी अजीब है,
पाया नहीं है जिसको
उसे खोना भी नहीं चाहते।

Ye ishq mohabbat ki
rivayat bi ajeeb hai,
paya nahi hai jisko
use khona bhi nahi chahte.

वो मुकम्मल हो गया
किसी और से दिल लगाकर,
मैं आज भी हूँ अधूरा
उसके इनकार को लेकर।

Wo mukammal ho gya
kisi aur se dil lagakar,
main aaj bhi hun adhura
uske inkaar ko lekar.

बेअदब सा तेरी इन गलियो को बस ताकता रहूँ,
जैसे नींद की आगोश में मैं हमेशा जागता राहु,
तीरगी में आकर थाम ले तू दामन मेरा,
आखिर कब तलक तेरी नज़रों से मैं भागता रहू।।

Beadab sa teri inn galiyo ko bas taakta rahu,
jaise nind ki aagosh me main humesa jagta rahu,
tirgi me aakar tham le tu daaman mera,
aakhir kab talak teri nazro se me bhagta rahu.

मुस्कुराहटों से इश्क़ करने चले थे…
पता नहीं ये गम हमसे दिल्लगी कब कर बैठा।

Muskurahaton se ishq karne chale the…
pata nahi ye ghum humse dillagi kb kr betha.

कुछ दिनों पहले हम अजनबी की तरह मिले थे,
देखो आज फिरसे हम अजनबी बन गए है।

Kuch dino pehle hum ajnabi ki tarah mile the,
dekho aaj firse hum ajnabi ban gaye hai.

वो ज़िन्दगी से क्या गए
मैं जहाँ से चला गया,
ये चलता फिरता शख्स अब
“मैं नहीं हूँ”

Wo jindagi se kya gaye
main jaha se chala gaya,
ye chalta firta shaks ab
“main nahi hun”

जब भी झूठे बहाने वो बनाता था,
मैं उसकी आँखों से सारा सच जान जाता था।

Jab bhi jhuthe bahane wo banata tha,
main uski aankho se saara sach jaan jata tha..

Leave a Reply