Best Shayari Hub

Sad Alone Shayari

ना वक़्त कट रहा..
और ना जज़्बात बट रहे,
अकेले से रेह गए हम..
बस फ़रियाद कर रहे,
कोई ख़ुशी की नुमाइश कर रहे
तो कोई ख़ुशी की ख्वाइश,
अकेले से रेह गए हम
बस एहतियात बरत रहे।।।।

Naa waqt kat raha..
or naa jazbaat bat rahe,
akele se reh gaye hum..
bas fariyaad kar rahe,
koi khushi ki numaaish kar rahe
to koi khushi ki khwaish,
akele se reh gaye hum
bas ehtiyaat barat rahe!!!!

यूँ तो चोट लगी किसी बेगुनाह को
पर जख़्म मेरे कुरेदे गए,
ना मैं खुद को संभाल सका
ना उसके आंसू पोछे गए,
कहने को तो हम दोनों ही बेबस थे हालात से,
पर वो मौत से लड़ता रहा
और हम खौफ से डरते रहे!!!!

Yu to chot lagi kisi begunaah ko
par jakhm mere kurede gaye,
naa me khud ko sambhal saka
naa uske aansu poche gaye,
kehne ko to hum dono hi
bebas the haalat se,
par wo maut se ladta raha
or hum khauf se darte rahe..

दीवाने,कभी हम भी थे उसकी अदाओं के,
और इस दीवाने को उसने भी बोहोत आजमाया था।।
सोई थी चैन से…. वो इन सर्द रातों में,
और कमबख्त हमें रातों को जगाया था।।

Deewane kbhi hum bhi the uski adao ke,
orr iss deewane ko usne bhi bhot aajmaya tha….
soi thi chain se wo inn sard raato me,
or kambhakt humen raato ko Jagaya tha.

Leave a Reply