Best Shayari Hub

Sad Shayari In Hindi

जब पहली दफ़ा तुम्हें देखा था मेने,
लगा ना जाने क्यों लोग दुनिया में गुम हो जाते है,
जबकि मैं तो बस तुम्हारी आँखों में ही गुम हो गया।
जैसे इस चेहरे को मुस्कान का सहारा
मिला हो और दिल को नयी बैचैनी।
सोचता हु की सारी उमर तेरी उन नजरों को ही ताकता रहू
बस तिलगी में आकर थाम लेना तू ये दामन मेरा,
आखिर कब तलक तेरी नज़रों से यु भागता रहू।।

Jab pehlu dafa tumhe
dekha tha mene,
laga na jane kyu log duniya
me gum ho jate h,
jabki me to bas tumhari aakho
me hi gum ho gya hu,
jaise is chehre ko muskan ka sahara
mila ho or dil ko nayi bechaini.
sochta hu ki saari umar teri
un nazro ko hi taakta rahu,
bas tilgi me aakar thaam le
tu ye daaman mera,
aakhir kab talak teri
nazro se yu bhagta rahu.

लगता है ख़ामोशी मज़बूरी है मेरी
पर तेरा हर सवाल अच्छा लगता है,
यूँ तो ऐसा कभी कोई दिन ना बिता
जिस दिन तेरा ख्याल ना आया हो,
अधिकतर रातों को सपनो में तेरा
कोई पैगाम ना आया हो,
सोचा था की तेरे बिन मेरा कोई वजूद नहीं है जैसे
और खो गया था तुझमे खो के खुद को ऐसे,
पर अब जब जा चुके हो तुम
जो मुझसे यूँ दूर…..
तब जाके जाना की आदत नहीं थी तेरी
सिर्फ तेरा साथ अच्छा लगता है।

Lagta hai khamoshi majburi h meri
par tera har sawal achha lagta h,
yu to esa kabhi koi din na bita
jis din tera khayal na aaya ho,
adhiktar raato ko sapno me tera
koi paigam na aya ho,
socha tha ki tere bina mera koi wajud nahi hai jese,
or kho gaya tha tujhme kho ke khud ko ese,
pr ab jab jaa chuke ho tum
jo mujhse yu dur…..
tab jaake jaana ki aadat nahi thi teri
sirf tera saath achha lagta hai.

है इश्क़ तो तुझसे
और अब कहना नहीं है,
तेरी ख़ामोशी ही कहती हो जेसे
की अब तेरे साथ रहना नहीं है,
माना की तेरी यादों के मंजर
मुझे रुलायेंगे तो बहोत,
पर तेरे साये से मेरी रूह लिपट जाए
मुझे ये गम और सहना नहीं है,
अब साथ रहना नहीं है
तेरी यादों में बहना नहीं है।

Hai ishq to tujhse
or ab kehna nahi hai,
teri khamoshi hi kehti ho jese
ki ab tere sath rehna nahi hai,
maana ki teri yaado ke manjar
mujhe rulayenge to bahot,
per tere saaye se meri ruh lipat jaye
mujhe ye ghum or sehna nahi hai,
ab saath rehna nahi hai
teri yaado me behna nahi hai.

ऐसा लगता है की रिश्तों की भागदौड़ के चलते
हम रिश्तों की बाग़ डोर संभालना ही भूल गए,
पहले सभी साथ मिलकर ख़ुशी से रहते
और अब साथ निभाना ही भूल गए,
सच तो ये है की – जिन हाथों ने हमे खाना खिलाया
आज उन्हें अपने हाथों से खिलाना ही भूल गए,
अब लगा जैसे समय ने क्या खेल रचा है
एक दूसरे को एहसान गिनाने के चलते
हम एक दूसरे के पास होने के एहसास
को बताना ही भूल गए,
कैसा ये असर है कलयुग का
की हम रिश्तों की डोर में उलझने के डर से
इस डोर में लगी मन मुटाव की गाँठ को
सुलझाना ही भूल गए,
हम प्यार करना ही भूल गए
साथ निभाना ही भूल गए।।

Esa lagta hai ki rishto ki bhagdod ke chalte
hum rishto ki baag dor sambhalna hi bhul gaye,
pehle sabhi saath milkar khushi se rehte
or ab saath nibhana hi bhul gaye,
sach to ye hai ki – jin hatho ne
hume khana khilaya
aaj unhe apne hathon se khilana hi bhul gaye,
ab laga jese samay ne kya khel racha hai
ek dusre ko ehsaan ginane ke chalte
hum ek dusre ke paas hone ke
ehsaas ko batana hi bhul gaye,
kesa ye asar hai kalyug ka ki hum
rishto ki baag dor me ulajhane ke dar se
iss dor me lagi man mutav ki gaath ko
suljhana hi bhul gaye,
hum pyaar karna hi bhul gaye
saath nibhana hi bhul gaye.

इजाजत ना दी कभी इन पलकों को
पलकों से टपकने की,
पर कंभक्त किसी और के आँसुओ ने
इस दिल को अपने हाल याद दिला ही दिए,
आखिर उसके आसु रुखते ही कैसे
बेइंतेहा मोहब्बत की दास्ताँ जो बयां कर रहे थे,
तब ऐसा लगा की आज उसे केह ही दू के
बोहत हिम्मत है तुझमे इस दर्द को सहने की,
पर अफ़सोस किस्मत भी मुट्ठी में कैद रेत की तरह थी,
आखिर फिसल ही गयी।।

Ijajat na di kabhi in palko ko
palko se tapakane ki,
par kambhakt kisi or ke aasuo ne
iss dil ko apne haal yaad dila hi diye,
aakhir uske aasu rukte hi kese
beintehaa mohabbat ki dastan jo bayan kr rahe the,
tan esa laga ki aaj use keh hi du ke
bahut himmat hai tujhme iss dard ko sehne ki,
pr afsos kismat bhi mutthi me kaid
ret ki tarah thi,
aakhir fisal hi gayi.

Leave a Reply