Best Shayari Hub

Sad Shayari

कितनी अजीब रीत है
इस ज़माने की
यहाँ सजा मिलती है
किसी को हद से ज्यादा चाहने की

Kitni ajeeb reet hai
Iss zamane ki,
Yahan saza milti hai
kisiko had se jyada chahne ki.
Credit~Deepak Sahu

1 thought on “Sad Shayari”

Leave a Reply