Two line shayari

चाँद को बहुत समय हो गया अपनी टक्कर का कोई देखे..
तुम छत पर क्यों नहीं आती…????

Chaand ko bahut samay ho gaya apni takkar ka koi dekhe..
tum chat pr kyu nahi aati…????

रात भर जागता हु एक ऐसे शख्स के ख़ातिर,
जिसे दिन के उजाले में भी मेरी याद नहीं आती।।

Raat bhar jaagta hu ek ese shaks ke khaatir,
jise din ke ujaale me bhi meri yaad nahi aati.

जिंदगी भर एक शख्स से हारे है हम,
जरा सोचो कितने बेचारे है हम।

Zindagi bhar ek shaks se haare hai hum,
jara socho kitne bechaare hai hum.

इश्क़ में उजड़ा, लगा कुछ ऐसे जीने,
चाय छोड़ चल दिया में शराब पीने।

Ishq me ujda,laga kuch ese jeene,
chai chod chal diya me sharab peene.

Two line Shayari

कुछ यूँ चर्चे है उनकी आँखों के
कुछ यूँ चर्चे है उनकी आँखों के,
कैद खाने है बिन सलाखों के।

kuch yun charche hai unki aankho ke
kuch yun charche hai unki aakho ke,
kaid khane hai bin salakho ke.

एक चेहरा मेरी आँखो में आबाद हो गया
उसे इतना पड़ा, की वो मुझे याद हो गया।

Ek chehra meri aankho me aabad ho gaya,
use itna pada, ki wo mujhe yaad ho gaya.