Best Shayari Hub

bhula dena shayari

New Two Line Shayari

कोई बड़े सपने नहीं है आसमा भी किसे चाहिए,
छोटी छोटी खुशियां और साथ तुम्हारा चाहिए।

हक़ीक़त में ना सही तो ख्वाबो में ही सही,
हर बार इज़हार मुकम्मल तो होता है।

Haqiqat me naa sahi to khwabo me hi sahi,
Har bar ijhaar muqammal to hota hai.

जलाकर अपना कलेजा चाय को बाहों में भरता है,
कुल्हड़ जैसा इश्क़ भला कौन करता है।

Jalakar apna kaleja chai ko baaho me bharta hai,
Kulhad jesa ishq bhala kon karta hai.

वो नासमझी का बचपन ही अच्छा था,
बड़े क्या हुए हर चीज समझ बैठे।

Wo naasamjhi ka bachpan hi achha tha,
Bade kya hue har chij samajh bethe.

अपनी कमियों को छुपाने में इतना मशरूफ हो गए सब,
अपनी कामयाबियों को ऊजागर नहीं कर पा रहे अब।

Apni kamiyon ko chupane me itna mashroof ho gye sab,
Apni kamiyabiyo ko ujagar nahi kar paa rahe ab.

कुदरत का मिजाज ही कुछ ऐसा है,
खुद को मिटा देना होता है फिर से खुद को बनाने के लिए।

Kudrat ka mijaj hi kuch esa hai,
Khud ko mita dena hota hai fir se
khud ko banane ke liye.

तू किसी coding की तरह उलझी सी,
मैं किसी coder की तरह सुलझा सा।

Tu kisi coding ki tarah uljhi si,
Me kisi coder ki suljha sa.

Latest Sad Shayari in Hindi

उसका भरोसा मेरे इस कच्चे मिट्टी के घर की तरह था,
और उसने दुआ मांगी भी तो बारिश की मांगी।।

Uska bharosa mere is kacche mitti ke ghar ki tarah tha,
aur usne dua mangi bhi to baarish ki maangi.

कुदरत भी अजीब जश्न मना रही है,
लाशे समसान में दीवाली मन रही है,
लाचार है गरीब सांस की भिक मांगने को,
लेकिन बड़े बड़े शहरों में सियासत गरमा रही है।

Kudrat bhi ajib jashn mana rahi hai,
laashe samsan me diwali mana rahi hai,
laachar hai garib saans ki bheek mangne ko,
lekin bade bade shehro me siyasat garma rahi hai.

कुछ उम्मीदे है मेरे मां बाप की,
जिनपर में खड़ा उतर नहीं पा रहा हूं,
दुनिया तेजी से भाग रही है ,
में कमबख्त चल भी नहीं पा रहा हूं।।

Kuch ummide h mere Maa Baap ki
Jinpar me khada utar nahi paa raha hu,
Duniya tezi se bhag rhi hai
Me kambhakt chal bhi nahi paa raha hu.

लाख कोशिशे करता हु उसे भूलने की
लेकिन फिर भी उसकी यादें नहीं जाती,
और एक वो है – जिसे गलती से भी
मेरी याद नहीं आती।।

Laakh kosise karta hu use bhulane ki
lekin fir bhi uski yaade nahi jaati,
aur ek wo he – jise galti se bhi
meri yaad nahi aati.