Best Shayari Hub

intezaar shayari in hindi

Intezar shayari

यूँ तो पहले भी ये गलिया मेरी मंज़िल थी,
पर कभी लफ़्ज़ों पे तेरा दीदार ना था,
अब मोहब्बत कहो या हम्द इसे,
पर कभी इन अश्कों को तेरी
एक झलक का इंतज़ार न था।

Yu to pehle bhi ye galiya meri manzil thi,
par kabhi lafzo pe tera deedar naa tha,
ab mohabbat kaho ya hamd ise,
par kabhi in ashqo ko teri
ek zhalak ka intezar naa tha.

मेरे पास थी वो,
मेरे साथ थी वो,
पर उसे पाने की कहा प्यास थी,
अब जब आती है उसकी यादें,
उससे बात करने के कर लेता हु खुद से वादे,
करना तो चाहता हु उससे बाते ढेर सारी,
पर बीत रही है तन्हाई में राते बेचारी,
हर वक़्त हर पल रखता हु उसे दिल के पास,
पर ना जाने क्यों वो समझे ये सब बकवास,
दुआ करता हु उसके लौट के आने के लिए,
फिलहाल तो जी रहा हु उसकी तस्वीर के जरिये।

Mere paas thi wo,
mere saath thi wo,
par use paane ki kaha pyaas thi,
ab jab aati hai uski yaade,
usse baat krne ke kar leta hu khud se waade,
karna to chahta hu usse baate dher sari,
par beet rahi hai tanhayi me raate bechari,
har waqt har pal rakhta hu use dil ke paas,
par naa jaane kyun wo samjhe ye sab bakwas,
dua karta hu uske laut aane ke liye,
filhaal to jee raha hu uski tasveer ke zariye.

कहीं गुम हूं मैं अपने सवालों में,
तो कहीं उलझी सी है वो अपने बालों में।।
ना इंतेज़ार उसे है ना मुझे,
पर फिर भी गुम है एक दूसरे के खयालों में।।

Kahi gum hu main apne sawalo me,
to kahi uljhi si hai wo apne baalo me,
naa intezar use hai naa mujhe,
pr fir bhi gum hai ek dusre ke khayalo me.

Intezar shayari

यूँ ना खिंच मुझे अपनी तरफ बेबस करके
ऐसा ना हो की खुद से भी बिछड़ जाऊ
और तू भी ना मिले
फिर कैसे कहूँगा उस बेचारे दिल से
की चली गयी तू फिर लौट कर आने का बहाना करके

Yu naa khich mujhe apni taraf bebas karke,
esa naa ho ki khud se bhi bichad jau
aur tu bhi naa mile
fir kese kahunga us bechare dil se
ki chali gayi tu fir laut kar aane ka bahana karke