Yaad shayari

हर सुबह उठ रहा हु एक नयी निराशा के साथ
लगता है कुछ नहीं रखा है इस बेगानी ज़िन्दगी में
ये छोड़ गयी अपना हाथ
पर फिर जीने की ख्वाहिश आ जाती है
उनकी खुशियो के साथ
और फिर बढ़ने लगता हु किसी भी और
उनकी यादों के साथ

Har subah uth raha hu ek nayi nirasha ke sath,
lagta hai kuch nahi rakha hai iss begani zindagi me
ye chod gayi apna hath,
Par fir jeene ki khwahish aa jati hai
unki khushiyo ke sath,
Aur fir badne lagta hu kisi bhi or
unki yaadon ke sath

आज फिर अधूरी रेह गयी
जो लिख रहा था तुझे भुला देने वाली शायरी
क्योंकि तेरी एक झलक की दीवानी ये नजरें
आज फिर तुझे देख बगावत कर बेठी बावरी

Aaj fir adhuri reh gayi
jo likh raha tha tujhe bhula dene wali shayari
kyuki teri ek jhalak ki deewani ye najre
aaj fir tujhe dekh bagawat kar bethi

बहुत याद आती है तेरी
पर तुझे आवाज ना दूंगा,
लिखूंगा हर शायरी तेरे लिए
पर तेरा नाम ना लूंगा।

Bahut yaad aati hai teri
par tujhe aawaj naa dunga,
likhunga har shayari tere liye
par tera naam na lunga.